लहसुन की फसल में खाद एवं उर्वरकों का प्रबंधन!

Analyze Mandi Bhav

/media/tips/images/garlic-4461533_640.jpg
लहसुन की फसल में उर्वरको एवं खाद की मात्रा मिट्टी की उर्वरक क्षमता पर निर्भर करती है। सामान्यतया प्रति हेक्टेयर में लगभग 20 से 25 टन पकी हुई गोबर की खाद अथवा लगभग 5 से 8 टन वर्मी कम्पोस्ट देना चाहिए। इसके साथ ही 1 क्विंटल नत्रजन, 50 kg फास्फोरस एवं 50 kg पोटाश की पर हेक्टेअर आवश्यकता होती है। इसके लिए 175 kg यूरिया, 109 kg डाई अमोनियम फास्फेट एवं 83 kg म्यूरेट आफ पोटाश की भी जरूरत होती है। गोबर की खाद, डी.ए. पी. (DAP) एवं पोटाश की पूरी मात्रा एवं यूरिया की आधी मात्रा खेत की अंतिम तैयारी के समय मिट्टी मे मिला देनी चाहिए। बची हुई यूरिया की मात्रा को 30-40 दिन बाद खडी फसल में छिडकाव के साथ देनी चाहिए। सूक्ष्म पोषक तत्वों की मात्रा के उपयोग से उपज मे वृद्धि मिलती है। 25kg ज़िंक सल्फेट प्रति हेक्टेयर लगभग 3 साल में एक बार उपयोग करना चाहिए। ड्रिप सिचाई एवं फर्टिगेशन का प्रयोग करने से उपज में वृद्धि होती है जल घुलनशील उर्वरकों का प्रयोग ड्रिप सिर्चाइ के माध्यम से करें। ****************************************************************** Management of fertilizers and fertilizers in garlic crop! The amount of fertilizers and fertilizers in a garlic crop depends on the fertility of the soil. Generally about 20 to 25 tonnes of cooked cow dung manure or about 5 to 8 tonnes of vermicompost should be given per hectare. In addition, 1 quintal nitrogen, 50 kg phosphorus and 50 kg potash are required. It also requires 175 kg urea, 109 kg dye ammonium phosphate and 83 kg muret of potash. Half the amount of cow dung, (DAP) and potash and half of urea should be added to the soil during the final preparation of the field. The remaining urea should be given after 30-40 days with spraying in the standing crop. The yield of micronutrients increases the yield. 25kg zinc sulfate per hectare should be used about once in 3 years. Use of drip irrigation and fertilization increases the yield. Use water soluble fertilizers through drip irrigation.

Today Mandi Bhav

View More Agriculture Tips

लहसुन की फसल में खाद एवं उर्वरकों का प्रबंधन!

9.57 K

now

चिपचिपे जाल को फ़सल के चारों ओर लगाने से फायदे!

4.37 K

4 minutes ago

सोयाबीन में गर्डल बीटल कीट से होने वाले नुकसान एवं प्रबंधन!

3.23 K

4 minutes ago

प्याज में कंदों के अच्छे विकास के लिए ये उपाय करें!

29.55 K

8 minutes ago

लहसुन की फ़सल में निराई गुड़ाई तथा खरपतवार के नियंत्रण!

8.98 K

12 minutes ago

सोयाबीन की फसल में फूल एवं फलियों का गिरने से रोकना!

5.49 K

35 minutes ago

फूलगोभी की फसल की वृद्धि और विकास के लिए!

8.14 K

47 minutes ago

प्याज के कन्दों के विकास के लिए महत्वपूर्ण सलाह!

18.57 K

an hour ago

सोयाबीन फलियों की उचित वृद्धि के लिए!

3.68 K

an hour ago

धनिया की फसल को पाले से केसे बचाएं!

9.64 K

2 hours ago

दूध उत्पादन हेतु अजोला चारा

3.83 K

2 hours ago

चने की फ़सल के लिए उचित मात्रा में खाद एवं उर्वरक प्रबंधन!

7.91 K

2 hours ago

बेकार पड़ी प्लास्टिक की बोतल में उगाए हरी प्याज!

4.52 K

2 hours ago

अब एक दिन में बेच सकेंगे किसान उड़द और मूंग !

1.04 K

2 hours ago

मूंगफली का उत्पादन कैसे बढ़ाएं?

18.29 K

2 hours ago

भिंडी की फसल की बढ़वार व अच्छे विकास के लिए पोषक तत्व

4.76 K

2 hours ago

गेहूँ की फसल में वृद्धि एवं फुटाव के लिए जरुरी उर्वरक!

13.62 K

2 hours ago

लहसुन की खेती के लिए बीज दर एवं बुवाई का समय!

18.61 K

2 hours ago

लहसुन और प्याज का बीज एवं भूमि उपचार!

4.83 K

2 hours ago

मिर्च की फसल में फूल की वृद्धि और फलों का विकास!

3.83 K

2 hours ago

जामफल के बग़ीचे में खरपतवार की रोकथाम केसे करें

2.74 K

2 hours ago

अमरूद ( जामफल ) में फल मक्खी का नियंत्रण

2.54 K

2 hours ago

संतरा में अधिक उत्पादन के लिए

4.34 K

2 hours ago

प्याज की फसल में निराई -गुड़ाई प्रबंधन!

3.15 K

2 hours ago

प्याज की फसल में बैंगनी धब्बा रोग का नियंत्रण!

3.54 K

2 hours ago

प्याज में उर्वरक प्रबंधन

3.9 K

2 hours ago

सोयाबीन की फसल में अधिक फलियाँ प्राप्त करने हेतु!

3.49 K

2 hours ago

प्याज में थ्रिप्स कीट का नियंत्रण

4.47 K

2 hours ago

प्याज में सल्फर का महत्व!

9.95 K

2 hours ago

टमाटर की फसल में फूल गिरने से ऐसे बचाये!

4.76 K

2 hours ago