चिपचिपे जाल को फ़सल के चारों ओर लगाने से फायदे!

Analyze Mandi Bhav

/media/tips/images/strick-trap-tips-khetiwadi.jpg
फसलों में अनेक प्रकार के रस चूसने वाले कीटों का प्रभाव देखा जाता है, जिसे रोकने के लिए किसान तरह-तरह के कीटनाशको का उपयोग करते हैं, जिससे पर्यावरण और फसल दोनों को नुकसान पहुँचता है। ऐसी परिस्तिथि में चिपचिपे जाल के उपयोग से फसलों में रस चूसक कीटों द्वारा होने वाले नुकसान को कम किया जा सकता है। केमिकल युक्त कीटनाशकों से कीट प्रभाव की रोकथाम में बहुत सी मुसीबतें सामने आती हैं, जिसमें सबसे महत्वपूर्ण कृषि पर्यावरण को कई प्रकार के नुकसान होते हैं। केमिकल युक्त कीटनाशकों के उपयोग के बजाय अगर किसान स्टिकी ट्रैप का उपयोग करे तो वह इन सभी समस्याओं से बच सकते हैं। चिपचिपे जाल एक प्रकार की रंगीन शीट होती हैं जो कई अलग अलग रंगो में आती है, यह फसल को क्षति पहुंचाने वाले रस चूसक कीटों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए खेत में फ़सल के चारों ओर लगाई जाती है। जिससे फसलों पर नुक़सान करने वाले कीटों से फ़सल की सुरक्षा हो जाती है तथा इसे लगाने से खेत का मुआयना भी हो जाता है की फ़सल में किस -किस प्रकार के कीटों का प्रभाव चल रहा है। इसके साथ ही इसकी लागत का कम होना, इसे लगाना भी आसान है, लगाने में समय तथा मेहनत की बचत, नियंत्रण भी कीटनाशक से बेहतर, रस चूसक कीटों से फ़सल की सुरक्षा के कारण फसल की गुणवत्ता तथा उपज में बड़ोतरी। आख़िर किस प्रकार काम करता है स्टिकी ट्रैप सभी कीट किसी न किसी विशेष प्रकार के रंग की ओर आकर्षित होते है। अब अगर उसी को ध्यान में रखते हुए उसी रंग की स्टिकी ट्रैप की शीट पर कोई चिपचिपा पदार्थ उस पर लगाकर फसल की ऊंचाई से लगभग एक फीट ऊंचाई पर इसे लगा दिया जाए तो कीट उस रंग से आकर्षित होकर इस स्टिकी ट्रैप की शीट पर चिपक जाएँगे। फिर यह आपकी फसल को नुकसान नहीं पहुंचा पाएँगे । किसानों के लिए लाभ कीटों का समय पर पता लगाने के लिए। कीट प्रकोप के जोखिम को कम करने के लिए। हॉट स्पॉट की पहचान करने के लिए। छिड़काव के समय व्यवस्थित करने के लिए।

Today Mandi Bhav

View More Agriculture Tips

चिपचिपे जाल को फ़सल के चारों ओर लगाने से फायदे!

4.37 K

now

सोयाबीन में गर्डल बीटल कीट से होने वाले नुकसान एवं प्रबंधन!

3.23 K

28 seconds ago

प्याज में कंदों के अच्छे विकास के लिए ये उपाय करें!

29.55 K

3 minutes ago

लहसुन की फ़सल में निराई गुड़ाई तथा खरपतवार के नियंत्रण!

8.98 K

7 minutes ago

सोयाबीन की फसल में फूल एवं फलियों का गिरने से रोकना!

5.49 K

31 minutes ago

फूलगोभी की फसल की वृद्धि और विकास के लिए!

8.14 K

43 minutes ago

प्याज के कन्दों के विकास के लिए महत्वपूर्ण सलाह!

18.57 K

58 minutes ago

सोयाबीन फलियों की उचित वृद्धि के लिए!

3.68 K

an hour ago

धनिया की फसल को पाले से केसे बचाएं!

9.64 K

2 hours ago

दूध उत्पादन हेतु अजोला चारा

3.83 K

2 hours ago

चने की फ़सल के लिए उचित मात्रा में खाद एवं उर्वरक प्रबंधन!

7.91 K

2 hours ago

बेकार पड़ी प्लास्टिक की बोतल में उगाए हरी प्याज!

4.52 K

2 hours ago

अब एक दिन में बेच सकेंगे किसान उड़द और मूंग !

1.04 K

2 hours ago

मूंगफली का उत्पादन कैसे बढ़ाएं?

18.29 K

2 hours ago

भिंडी की फसल की बढ़वार व अच्छे विकास के लिए पोषक तत्व

4.76 K

2 hours ago

गेहूँ की फसल में वृद्धि एवं फुटाव के लिए जरुरी उर्वरक!

13.62 K

2 hours ago

लहसुन की खेती के लिए बीज दर एवं बुवाई का समय!

18.61 K

2 hours ago

लहसुन और प्याज का बीज एवं भूमि उपचार!

4.83 K

2 hours ago

लहसुन की फसल में खाद एवं उर्वरकों का प्रबंधन!

9.57 K

2 hours ago

मिर्च की फसल में फूल की वृद्धि और फलों का विकास!

3.83 K

2 hours ago

जामफल के बग़ीचे में खरपतवार की रोकथाम केसे करें

2.74 K

2 hours ago

अमरूद ( जामफल ) में फल मक्खी का नियंत्रण

2.54 K

2 hours ago

संतरा में अधिक उत्पादन के लिए

4.34 K

2 hours ago

प्याज की फसल में निराई -गुड़ाई प्रबंधन!

3.15 K

2 hours ago

प्याज की फसल में बैंगनी धब्बा रोग का नियंत्रण!

3.54 K

2 hours ago

प्याज में उर्वरक प्रबंधन

3.9 K

2 hours ago

सोयाबीन की फसल में अधिक फलियाँ प्राप्त करने हेतु!

3.49 K

2 hours ago

प्याज में थ्रिप्स कीट का नियंत्रण

4.47 K

2 hours ago

प्याज में सल्फर का महत्व!

9.95 K

2 hours ago

टमाटर की फसल में फूल गिरने से ऐसे बचाये!

4.76 K

2 hours ago