पॉलीहाउस या ग्रीनहाउस क्या होता ? क्या इसकी खेती करना आसन होता है?

/media/tips/images/What-would-be-a-polyhouse-or-a-greenhouse.jpg

एक पॉलीहाउस, जिसे ग्रीनहाउस के रूप में भी जाना जाता है, यूवी स्थिर पॉलीथीन शीट, छाया जाल और कांच जैसी पारदर्शी सामग्रियों से बना एक संरचना है, जो फसलों की नियंत्रित खेती की अनुमति देता है। यह फसलों को प्रतिकूल मौसम की स्थिति जैसे बारिश, हवा और अत्यधिक तापमान में उतार-चढ़ाव से बचाने में मदद करता है। पॉलीहाउस विभिन्न सेंसर, ड्रिप सिंचाई प्रणाली और तापमान नियंत्रण प्रणाली से लैस हैं जो पौधों के लिए अनुकूल विकास वातावरण बनाने में मदद करते हैं।

पॉलीहाउस में फसलों की खेती करना कोई मुश्किल काम नहीं है, हालांकि इसके लिए कुछ विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। इसमें तापमान, आर्द्रता, प्रकाश और पानी का सावधानीपूर्वक प्रबंधन शामिल है, जो पौधे के विकास को बढ़ावा देने और पैदावार में सुधार करने में मदद करता है। ड्रिप सिंचाई प्रणालियों और स्वचालित जलवायु नियंत्रण प्रौद्योगिकियों की मदद से, किसान आसानी से पौधों के विकास वातावरण का प्रबंधन कर सकते हैं। हालांकि, पॉलीहाउस खेती के लिए उच्च प्रारंभिक निवेश की आवश्यकता होती है और यह वाणिज्यिक किसानों के लिए उपयुक्त है जो उच्च पैदावार की तलाश में हैं।

पॉलीहाउस एक प्रकार का ग्रीनहाउस है जिसका निर्माण यूवी स्थिर लचीली चादरों, स्टील फ्रेम और कीट जाल जैसी सामग्रियों का उपयोग करके किया जाता है। कृषि में पॉलीहाउस का उपयोग दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है, खासकर भारत में। यह फसलों को नियंत्रित पर्यावरण की स्थिति प्रदान करता है जिससे बेहतर पैदावार और उत्पादकता होती है।

पॉलीहाउस सब्जियों, फलों, फूलों, औषधीय पौधों आदि जैसी फसलों की एक विस्तृत श्रृंखला की खेती के लिए उपयुक्त हैं। वे फसलों को कीटों और बीमारियों, तापमान में उतार-चढ़ाव, भारी बारिश और हवा, और अन्य पर्यावरणीय कारकों से बचाते हैं। वे किसानों को पूरे वर्ष फसल उगाने की अनुमति देते हैं, जो एक स्थिर आय स्रोत प्रदान करते हैं।

भारत में, पॉलीहाउस को सरकार द्वारा विभिन्न योजनाओं और सब्सिडी के माध्यम से एक व्यवहार्य कृषि विकल्प के रूप में बढ़ावा दिया जा रहा है। कई निजी कंपनियां भी हैं जो पॉलीहाउस के निर्माण के लिए परामर्श और निर्माण सेवाएं प्रदान करती हैं।

Analyze Mandi Bhav

Today Mandi Bhav

View More Agriculture Tips

अमेरिका मे फसल केसे बेची जाती है ?

1.71 K

5 minutes ago

मल्चिंग तकनीक से खेती करने का फायदा

2.77 K

16 minutes ago

फसल चक्रण

582

an hour ago

चने की दो नई क़िस्मों से अब होगा किसानों का फायदा ही फायदा !

2.81 K

an hour ago

कसुरी मेथी क्या है, स्वास्थ्य के लिए इसका उपयोग

2.83 K

2 hours ago

प्याज में उर्वरक प्रबंधन

4.98 K

2 hours ago

मूंगफली का उत्पादन कैसे बढ़ाएं?

20.3 K

3 hours ago

संतरा में अधिक उत्पादन के लिए

5.5 K

3 hours ago

मूंग के पत्ते काले हो रहे हैं क्या कारण है ?

4.15 K

4 hours ago

सोयाबीन फलियों की उचित वृद्धि के लिए!

4.83 K

4 hours ago

आधुनिक खेती , मॉडर्न फार्मिंग

867

4 hours ago

मुझे अपनी मिर्च को कितना पानी देना चाहिए?

2.02 K

5 hours ago

भिंडी में फूलों की मात्रा ऐसे बढ़ाएं

4.59 K

5 hours ago

सोयाबीन में पत्ती खाने वाली इल्ली का प्रबंधन!

3.34 K

5 hours ago

संतरे के फूल गिरने से केसे बचाए

1.44 K

5 hours ago

पुराने समय ओर आज के समय मे खेती करने मे कितना बदलाव आया है ?

1.65 K

6 hours ago

क्या किसानों के लिए गुजरात में कोई ट्रैक्टर लोन योजना है?

1.34 K

6 hours ago

अमरूद ( जामफल ) में फल मक्खी का नियंत्रण

3.67 K

8 hours ago

गेहूँ की फसल में वृद्धि एवं फुटाव के लिए जरुरी उर्वरक!

18.55 K

8 hours ago

लहसुन की फ़सल में निराई गुड़ाई तथा खरपतवार के नियंत्रण!

10.1 K

8 hours ago

सरकार द्वारा पशुपालन के लिए नवीनतम सब्सिडी कौन सी है?

824

9 hours ago

टमाटर की फसल में फूल गिरने से ऐसे बचाये!

5.86 K

10 hours ago

लहसुन और प्याज का बीज एवं भूमि उपचार!

5.88 K

11 hours ago

प्याज में थ्रिप्स कीट का नियंत्रण

5.73 K

12 hours ago

लहसुन की फसल में खाद एवं उर्वरकों का प्रबंधन!

11.46 K

13 hours ago

मिर्च की फसल में फूलों की संख्या कैसे बढ़ाएं!

4.75 K

15 hours ago

किस तरह की खेती करके ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है ?

1.87 K

16 hours ago

भारत में फसलों के भाव कैसे तय किये जाते है ?

1.73 K

18 hours ago

लहसुन की खेती के लिए बीज दर एवं बुवाई का समय!

19.99 K

18 hours ago

सोयाबीन की फ़सल के लिए उचित तैयारी

906

20 hours ago